new zealand

हॉकी विश्व कप 2018 चैंपियन बनने की शुरुआत हो चुकी है। चमचमाती ट्रॉफी किसके हाथ लगेगी, यह 16 दिसंबर को तय हो जायेगा। पहले दिन भारत ने जहाँ कमज़ोर दक्षिण अफ़्रीकी टीम को 5-0 से हरा लगभग अंतिम-आठ में अपनी जगह पक्की कर ली है।

पहले दिन, दूसरा मुक़ाबला बेल्जियम और कनाडा के बीच खेला गया। कनाडा के डिफेन्स ने अच्छा प्रदर्शन दिखाया। कनाडा के खिलाफ़, विश्व की तीसरे नम्बर की टीम को संघर्ष करना पड़ा।

दूसरे दिन भी दो मुक़ाबले खेले गए। पूल-ए के मुकाबलों में न्यूज़ीलैंड-फ्रांस और अर्जेंटीना-स्पेन के बीच करीबी मुक़ाबले खेले गए। साफ़ देखा जा सकता है कि प्रतिस्पर्धात्मकता का स्तर पिछले विश्व कप के मुक़ाबले कितना ऊंचा हो चुका है।

और पढें – Full 2019 Race calendar Officially announced

अर्जेंटीना और स्पेन के बीच करीबी मुक़ाबला

विश्व की टॉप टीमों के बीच इतना रोमांचक मुक़ाबला खेला गया कि मैच के शुरुआती 16 मिनटों में ही पांच गोल दागे जा चुके थे। अनुभवी अर्जेंटीनी खिलाड़ी, ऑग्स्तिनी माज़िली के दो गोल के कारण, स्पेन बैकफुट पर था।

argentina

मैच का पहला गोल स्पेन की ओर से आया। जब एनरिके गोंज़ालेज़ ने तीसरे ही मिनट में स्पेन को मैच में शुरुआती बढ़त दिलाई। लेकिन जल्द ही इन-फ़ॉर्म, अर्जेंटीनी स्ट्राइकर, माज़िली ने अगले ही मिनट अर्जेंटीना को बराबरी पर ला खड़ा किया।

यह भी पढें – सर्वाइवर सीरीज़ में ही चोटिल हो गए थे ब्रॉन स्ट्रोमैन

गोंज़ालो पीलैट ने भी अपनी ड्रैग-फ्लिक स्किल्स दिखाते हुए, दो बार मिले पेनल्टी कॉर्नर से गेंद को गोल पोस्ट में भेजकर ही दम लिया। फलस्वरूप अर्जेंटीना को इस मुक़ाबले में 4-3 की जीत हासिल हुई।

आख़िरी क्षणों में न्यूज़ीलैंड को मिली जीत

new zealand

केन रसेल ने फ्रांस के डिफेन्स को भेदते हुए न्यूज़ीलैंड को शुरुआती बढ़त दिलाई। लेकिन मैच आख़िरी क्षणों तक जा खिंचा। मैच ख़त्म होने से केवल पांच मिनट पहले न्यूज़ीलैंड, स्टीफनी जेनेस के गोल से ड्राइविंगसीट पर विराजमान हो चला।

लेकिन फ्रांस की ओर से आया 59वें मिनट में विक्टर चार्लेट का गोल कीवी खिलाड़ियों के लिए ख़तरे की घंटी साबित हो सकता था। लेकिन कीवी डिफेन्स ने आख़िरी एक मिनट फ़्रांस के अटैक को रोके रखा और 2-1 से मैच जीता।

और पढें – वेस्टइंडीज़ टेस्ट सीरीज़ हारने के करीब, 75 रन के स्कोर पर गिरे पांच विकेट